अग्रवाल सम्मेलन उत्तराखंड द्वारा वृक्षारोपण का कार्यक्रम किया गया।

पर्यावरण को बचाने में पेड़-पौधों की अहम भूमिका
देहरादून :- अखिल भारतीय अग्रवाल सम्मेलन उत्तराखंड द्वारा राष्ट्रीय व सामाजिक कार्यक्रम के अंतर्गत केंद्रीय विद्यालय सेना एकेडमी देहरादून में वृक्षारोपण का कार्यक्रम किया गया। इस अवसर पर राष्ट्रीय संगठन मंत्री अखिल भारतीय अग्रवाल सम्मेलन व भारत विकास परिषद गंगोत्री शाखा के संरक्षक रोशन लाल अग्रवाल ने कहा-पेड़-पौधे जहां जीवनदायिनी आक्सीजन देते हैं वहीं खाद्य, जल एवं आहार श्रृंखला को आगे बढ़ाने में भी बड़ा योगदान होता है। पेड़ पौधे की कमी से आक्सीजन की कमी होती चली जाएगी जिससे जीना दूभर हो जाएगा। ऐसे में पेड़ पौधे जीवन को बचाने में ही नहीं अपितु पर्यावरण को सुरक्षित रखने में भी अहम रोल अदा कर रहे हैं। पेड़ लगाना व उनको सुरक्षित रखना हमारी भारतीय संस्कृति है। हम पीपल को ब्रह्म का स्वरूप मानते हैं।

 

इसी अवसर पर *उत्तराखंड के प्रसिद्ध 126 बार रक्तदान करने वाले संरक्षक श्री योगेश अग्रवाल जी कहा-कोरोना काल मे हमने देखा लोग कैसे आक्सीजन के लिए जूझ रहे थे। यह भी सत्य है जहाँ प्राकृतिक पेड़ -पौधे थे वहां ऑक्सीजन की कमी नहीं रही। उन्होंने नारा दिया ” *पेड़-पौधे लगाएंगे हम पर्यावरण को बचाएंगे हम”।
*पर्यावरणविद राजेश जी जो हजारों विभिन्न प्रजाति के पेड़ लगाकर इतिहास रच रहे हैं कहा हमें संकल्प लेना चाहिए किसी भी मांगलिक अवसर पर हम एक पेड़ अवश्य लगायें।


संस्था के सचिव प्रवक्ता पीयूष निगम ने कहा– ये हमारे भारतीय संस्कार हैं पेड़ लगाना हम पूण्य मानते हैं । पेड़ काटना हम पाप समझते हैं। हम वो लोग हैं जो नदियों पेड़-पौधों की पूजा करते हैं।
वृक्षारोपण में आज 10 प्रकार की प्रजाति के-नीम, पीपल, ग्लोय, पदम, आंवला, बेल, अर्जुन, तेजपत्ता,कचनार, कपूर आदि के पौधों का रोपण किया गया।
इस अवसर पर बड़ी संख्या में विद्यार्थियों व विद्यालय के स्टाफ ने भाग लिया। विद्यालय के प्रधानाचार्य श्री मामचंद जी उपस्तिथ अतिथियों का भव्य स्वागत व आभार व्यक्त किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here