Uttarakhand Big news: एक जिले से दूसरे जिले में आवागमन को लेकर एक बड़ा फैसला।

जैसे-जैसे लॉक डाउन के नए चरण सामने आ रहे हैं हर बार किसी न किसी रूप में जनता को  छूटे नियम में बदलाव करके दी जा रही है। इसी कड़ी में राज्य सरकार ने एक बड़ा ऐलान किया है। एक न्यूज़ वेबसाइट के मुताबिक अब राज्य के भीतर एक जिले से दूसरे जिले की यात्रा की जा सकती है, इसके लिए ई-पास बनवाने की जरूरत भी नहीं है। हां यात्रा करते वक्त एक बात का ध्यान रखना होगा। एक जिले से दूसरे जिले तक आवाजाही सिर्फ सुबह 7 बजे से शाम 4 बजे तक ही की जा सकती है। शाम 4 बजे के बाद आवाजाही समेत हर तरह की गतिविधियां बंद रहेंगी।

Also Read  उत्तराखंड: 22 साल के विभव ने घर में ही खुद को गोली मारकर की आत्महत्या, चौकाने वाला व्हाट्सएप आया सामने

 

राज्य के जिलों में बिना पास के आवाजाही की अनुमति मिलने से आम लोगों के साथ-साथ सरकारी दफ्तरों में काम कर रहे कर्मचारी भी राहत महसूस करेंगे। बता दें कि लॉकडाउन के चौथे फेज में परिवहन सेवाओं के संचालन में छूट मिलने लगी है, लेकिन इसे लेकर अब भी कई तरह के कंफ्यूजन बरकरार हैं।

जगह-जगह लोग ई-पास बनवाने के लिए लाइन में लगे दिखते हैं। चंपावत में भी लोग पास को लेकर परेशान थे, इनके मन में कई सवाल थे, जिनका जवाब डीएम एसएस पांडेय और एसपी लोकेश्वर सिंह ने शनिवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में दिया। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के दौरान देहरादून और हरिद्वार जैसे जिलों में जाने वाले लोगों को पर्वतीय मार्ग का इस्तेमाल करने की अनुमति होगी, लेकिन अगर कोई यूपी के रास्ते जाना चाहता है तो इसके लिए पास की जरूरत पड़ेगी। राज्य में आवाजाही के लिए पास की जरूरत नहीं है। सुबह 7 बजे से शाम 4 बजे तक राज्य के एक जिले से दूसरे जिले में आवाजाही की जा सकती है

Also Read  अन्य राज्यों से उत्तराखंड आने वाले यात्रियों के लिए जारी नए दिशानिर्देश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here