Uttarakhand Lockdown : तनाव में आकर आर्थिक तंगी झेल रहे माली ने की खुदखुशी

सितारगंज में तनाव में आकर आर्थिक तंगी झेल रहे माली ने खुदखुशी कर ली। माली की मां किडनी रोग से ग्रसित है और प्राइवेट अस्पताल में भर्ती है। ब्याज पर लिए गए रुपयों से उनका इलाज कराया जा रहा है।

सिडकुल चौकी प्रभारी सुरेंद्र कोरंगा ने बताया कि शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। सिडकुल बंदरिया चौक निवासी सुरेश कुमार एल्डिको में माली हैं। उनका बेटा सोनू (23) भी सिडकुल के एक होटल में माली था। दो दिन पहले सुरेश की पत्नी फूलमती की तबीयत बिगड़ी तो उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया।

Also Read  शादी में शामिल होने वाले सभी लोगो को RT-PCR की नेगेटिव रिपोर्ट लानी है, जानिए क्या है नए नियम ?

लॉकडाउन में काम न मिलने के कारण आर्थिक तंगी झेल रहा परिवार
उन्होंने रिश्तेदार से ब्याज पर रुपए उधार लिए। लॉकडाउन की वजह से काम न मिलने के कारण परिवार आर्थिक तंगी झेल रहा है।

इसी तनाव में आकर सोनू ने मंगलवार को जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या कर ली। परिजन उसे सीएचसी ले गए, लेकिन उसने रास्ते में ही दम तोड़ दिया।

सुरेश कुमार ने बताया कि उनके चार बच्चे हैं। सबसे बड़ा बेटा अमरनाथ हैदराबाद में काम करने गया है। लॉकडाउन की वजह से वह वहीं फंसा है। उससे छोटा सोनू था। दो बहनें भी हैं। एक ही शादी हो गई है।
उधार मांगकर चला रहे घर का खर्च
काशीपुर के ग्राम जाबत नगर रेहड़ बिजनौर निवासी भारत सिंह दो वर्ष से पत्नी और तीन बच्चों के साथ नई बस्ती कुंडेश्वरी में किराए के मकान में रहते हैं। मजूदरी कर परिवार का भरण पोषण करते हैं।

Also Read  IHRCCO ह्यूमन राइट्स संगठन के प्रदेश अध्यक्ष बने गौरव खंडेलवाल .

ग्राम किरावली बुलंदशहर निवासी सोनपाल करीब सात साल से इसी कालोनी में अपने परिवार के साथ किराए के मकान में रहते हैं। दो वर्ष पूर्व ग्राम प्रधान ने एपीएल राशन कार्ड बनवाया था, लेकिन कार्ड सरकारी दस्तावेजों में दर्ज नहीं हो सका।

जिसके चलते सस्ता गल्ला राशन विक्रेता इस राशन कार्ड पर राशन नहीं देता है। लॉकडाउन के कारण काम काज ठप है। उधार मांगकर घर का खर्च चला रहे हैं।

Also Read  उत्तराखंड में तेजी से बढ़ रहे संक्रमण के मामले, जानिए आज कितने नए मामले आये सामने

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here