विदेशी कंपनियों का निवेश भारतीय शेयर बाजार में सबसे निचले स्तर पर,

बाजार में आई गिरावट का फायदा कंपनियों के प्रमोटर्स ने भी उठाया. निफ्टी 500 इंडेक्स कंपनियों में प्रमोटर्स की हिस्सेदारी तिमाही-दर-तिमाही की तुलना में 130 बेसिस अंक बढ़ी. जबकि साल-दर-साल की तुलना में इसमें 150 बेसिस अंत का इजाफा हुआ. मार्च तिमाही में यह 50.5 फीसदी तक पहुंच गई.

इस रिपोर्ट के अनुसार, बीते पांच साल में भारतीय बाजारों घरेलू निवेशकों का दबदबा बढ़ा है क्योंकि निवेशकों ने इस दौरान सिप निवेश में इजाफा किया है. घरेलू निवेशकों का रुझान वित्तीय बचत में बढ़ा है.

Also Read  ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए जरूरतमंद लोगों तक सेवा पहुचा रहे हैं अंकुर जैन- सेवा ही संगठन हैं

वहीं, बीते एक साल में विदेशी और घरेलू संस्थागत निवेशकों की हिस्सेदारी का अनुपात बीमा सेक्टर में बढ़ा है, जबकि टेलीकॉम, रियल एस्टेट, निजी बैंक, सीमेंट, हेल्थकेयर, ऑटो, रिटेल और टेक्नोलॉजी जैसे सेक्टर्स में कम हुआ है.

शोभित अग्रवाल
शेयर बाजार विश्लेषक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here