लोन मोरेटोरियम (Loan Moratorium Scheme) मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को कड़ी फटकार लगाई है।

लोन मोरेटोरियम (Loan Moratorium Scheme) मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को कड़ी फटकार लगाई है। मोरेटोरियम पर बैंकों द्वारा ब्याज (interest) वसूलने पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा कि आप रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के पीछे नहीं छुपें और अपना पक्ष रखें कि आपने बैंकों को लोन मोरेटोरियम पर interest लेने से क्यों नहीं रोका।

सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में केंद्र सरकार से अपना रुख स्पष्ट करने को कहा है। इस मामले की अगली सुनवाई 1 सितंबर को होगी।
सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि यह समस्या आपके द्वारा लगाए गए लॉकडाउन की वजह से पैदा हुई है। यह केवल व्यवसाय पर विचार करने का समय नहीं है,

Also Read  इन शेयरों में करें निवेश जो भरेंगे आपके पोर्टफोलियों में रौनक

सरकार को लोगों की दुर्दशा के बारे में भी सोचना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ इस मामले की सुनवाई कर रही है।

बैंकों को ब्याज पर अतिरिक्त ब्याज वसूलने दिया
कोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछा आपके पास आपदा प्रबंधन अधिनियम (Disaster management act) के तहत पर्याप्त शक्तियां थीं जिससे आप बैंकों को Interest लेने से रोक सकते थे, लेकिन आप ने RBI के पीछे छिपना मुनासिब समझा और बैंकों को मनमाने तरीके से ब्याज वसूलने दिया। आपको आम आदमी के बारे में भी तो सोचना चाहिए था।

Also Read  इन शेयरों में करें निवेश जो भरेंगे आपके पोर्टफोलियों में रौनक

इस पर केंद्र सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने जवाब दाखिल करने के लिए एक सप्ताह का समय मांग, जिसे शीर्ष अदालत ने स्वीकार कर लिया। संविधान पीठ ने सॉलिसिटर जनरल से आपदा प्रबंधन अधिनियम पर रुख स्पष्ट करने और यह बताने के लिए भी कहा कि क्या मौजूदा समय में ब्याज पर अतिरिक्त ब्याज लिया जा सकता है।

Loan Moratorium की अवधि बढ़ाई जाए
आगरा निवासी गजेन्द्र शर्मा की इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। याचिकाकर्ता की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने पीठ को बताया कि कर्ज की स्थगित किस्तों की अवधि 31 अगस्त को समाप्त हो जाएगी। उन्होंने इसके विस्तार की मांग करते हुए कहा कि जब तक इस मामले में कोई फैसला नहीं हो जाता, तब तक Loan Moratorium Scheme खत्म नहीं करना चाहिए।

Also Read  इन शेयरों में करें निवेश जो भरेंगे आपके पोर्टफोलियों में रौनक

याचिकाकर्ता ने सुप्रीम कोर्ट से बैंको की अधिसूचना से उस हिस्से को निकालने का निर्देश देने का आग्रह किया है, Loan Moratorium अवधि के दौरान कर्ज राशि पर ब्याज वसूलने की बात कही गई है।

शोभित अग्रवाल
शेयर बाजार विश्लेषक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here